सेहत के लिए फायदेमंद है बथुआ

bathua-10.jpg

बथुए से बने साग में  विटामिन ए B1, B2, B3, B5, B6, B9 और विटामिन C तथा कैल्शियम, लोहा, मैग्नीशियम, मैगनीज, फास्फोरस, पोटाशियम, सोडियम व जिंक आदि मिनरल्स प्रचुर मात्रा में पाए जाते है. इसके अलावा आपने अपने घर में दादी-नानी से सुना होगा कि बथुए का सेवन कई बीमारियों को दूर करने में किया जाता है.

सर्दियों में हर घर में बथुए का सेवन किया जाता है. स्वाद में अच्छा लगने वाला बथुआ कई तरह से हमारे शरीर को फायदा पहुंचाता है. यह काफी पौष्टिक होता है।

बथुए का रयता

जब बथुवा शीत (मट्ठा, लस्सी) या दही में मिला दिया जाता है तो यह किसी भी मांसाहार से ज्यादा प्रोटीन वाला व किसी भी अन्य खाद्य पदार्थ से ज्यादा सुपाच्य व पौष्टिक आहार बन जाता है और साथ में बाजरे या मक्का की रोटी, मक्खन व गुड़ की डळी हो तो इस खाने के लिए देवता भी तरसते हैं।

लेकिन इसका सेवन एक लिमिट में ही सही रहता है. ज्यादा खाने पर यह सेहत के लिए नुकसानदेह भी हो सकता है. आगे पढ़िए इससे होने वाले फायदों  के बारे में…

बालों के लिए फायदेमंद
बथुआ का सेवन करने से बालों की नेचुरलिटी बरकरार रहता है. यह बालों के लिए आंवले जितना ही गुणकारी रहता है. इसमें विटामिन और खनिज तत्वों की मात्रा आंवले से ज्यादा होती है। सिर से ढेरे व फांस (डैंड्रफ) साफ करने के लिए बथुवै के पानी से बाल धोना लाभकारी है। आयरन, फास्फोरस और विटामिन ए के कारण यह बालों के लिए काफी फायदेमंद रहता है.

दांतों के लिए गुणकारी
बथुए को साग या रोटी में मिलाकर खाने से दांतों से जुड़ी समस्याओं में राहत मिलती है. बथुए की पत्तियों को कच्चा चबाने से सांस की बदबू, पायरिया और दांतों से जुड़ी समस्याएं कम होती हैं.

चर्म रोग दूर करे
यदि आपको स्किन से जुड़ी हुई प्राब्लम है तो बथुए को उबालकर इसका रस पीने और सब्जी बनाकर खाने से चर्म रोग जैसे सफेद दाग, फोड़े-फुंसी, खुजली में आराम मिलता है. बथुए के पत्तों को पीसकर इसका रस निकालें, 2 कप रस में आधा कप तिल का तेल मिलाएं और इसे धीमी आंच पर पकाएं. इसे पीने से स्किन से जुड़ी समस्या दूर होगी.

कब्ज से दें राहत
कब्ज की समस्या आम है. ऐसे में कब्ज से राहत दिलाने में बथुआ बेहद कारगर है. गठिया, लकवा ग्रस्त लोगों के उपचार और गैस की समस्या में यह काफी फायदेमंद साबित होता है.

पाचन शक्ति बढ़ाए
यदि आपको पाचन से जुड़ी परेशानी है तो बथुए का सेवन करें. इसके सेवन से भूख में कमी आना, खाना देर से पचना, खट्टी डकार आना जैसी स्वास्थ्य समस्याओं के में आराम मिलता है.

पीलिया में फायदेमंद
एक कप बथुए और गिलोय का रस मिलाकर रख लें. फिर इसे एक बार में 25 से ग्राम दिन में दो बार पिएं. इसका सेवन करने से आपको पीलिया की समस्या में राहत मिलेगी.

खून साफ करे
बथुए को 4-5 नीम की पत्तियों के रस के साथ खाया जाए तो खून अंदर से शुद्ध हो जाता है. साथ ही ब्लड सर्कुलेशन भी ठीक रहता है. साथ ही बच्चों को कुछ दिनों तक लगातार बथुआ खिलाया जाए तो उनके पेट के कीड़े मर जाते हैं. बथुआ पेट दर्द में भी फायदेमंद है.

 

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

search previous next tag category expand menu location phone mail time cart zoom edit close